15 अक्टूबर से स्कूल खोलने केंद्र ने जारी की गाइडलाइन, साथ ही पढें राज्य के शिक्षा मंत्री का बयान

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने स्कूलों को फिर से खोलने के लिए सोमवार को दिशानिर्देश जारी किए हैं। इनमें परिसरों की पूरी तरह सफाई और उन्हें संक्रमणमुक्त करना, उपस्थिति की नीतियों में लचीलापन रखना, तीन सप्ताह तक मूल्यांकन नहीं करना और कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान घर से पढ़ाई से सुगमता से औपचारिक स्कूल प्रणाली तक बदलाव सुनिश्चित करना शामिल है। मंत्रालय ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से उनकी स्थानीय आवश्यकताओं के अनुसार स्वास्थ्य और सुरक्षा सावधानियों के आधार पर एसओपी तैयार करने को कहा।

मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि ”स्कूलों के पुन: खुलने के दो से तीन सप्ताह तक कोई मूल्यांकन नहीं किया जाएगा और आईसीटी तथा ऑनलाइन प्रशिक्षण को प्रोत्साहित किया जाता रहेगा।”कंटनेमेंट जोन के बाहर स्कूल, कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थान 15 अक्टूबर के बाद पुन: खुल सकते हैं।

वहीं राज्य के शिक्षा मंत्री ने कहा कि अभिभावकों के सहमत होने के बाद ही स्कूल खोले जाएंगे। अभिभावकों की राय पता करने के लिए सरकार ने सभी जिलाधिकारियों से कहा है। जिलाधिकारी इस पर एक रिपोर्ट पेश करेंगे। इस रिपोर्ट को 8 अक्टूबर तक सरकार को देना है और फिर इस पर चर्चा होगा। इस रिपोर्ट में स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन भी अपनी राय देंगे। सरकार ने स्पष्ट किया है कि बच्चों की सुरक्षा सबसे ज्यादा जरूरी है और सरकार कोई भी निर्णय जल्दीबाजी में नहीं लेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.