उत्तराखंड: जंगल की आग बड़े क्षेत्र में फैली, बचाव टीमें और हेलीकॉप्टर कार्य में जुटे

प्रदेश में प्राकृतिक आगजनी की घटनाएं सामने अा रही हैं। आग लगने से अब तक 1291 हेक्टेयर वन क्षेत्र प्रभावित हो चुका है। आग लगने से न सिर्फ जंगलों को नुकसान पहुंच रहा है, बल्कि इंसानों और मवेशियों की जान भी जा रही है। अब तक इसके कारण सात जानवरों और चार लोगों की मौत हुई है। फिलहाल राज्य में 964 जगहों पर जंगलों में आग लगी हुई है। वन मंत्री हरक सिंह रावत ने खुद इसकी पुष्टि की है। चिंताजनक बात ये है कि अभी गर्मी के मौसम की शुरुआत है, लेकिन हालात बेकाबू होने लगे हैं। पिछले दो दिन में अल्मोड़ा क्षेत्र के अंतर्गत जंगलों में आग लगने की नौ घटनाएं सामने आ चुकी हैं। एसडीआरएफ की टीमें मौके पर पहुंच कर बचाव और राहत कार्य में जुट रही हैं।

यह भी पढ़ें: हल्द्वानी (गजब): वैक्सीन के दोनों डोज लगने के बाद भी हुआ कोरोना संक्रमण

इस आग पर नियंत्रण पाने के लिए सीएम तीरथ सिंह रावत ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बातचीत की थी। रविवार को गृह मंत्री ने हेलीकॉप्टर और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीमों को तत्काल प्रभाव से प्रदेश भेजने के निर्देश दिए। सीएम ने मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए वन महकमे के अफसरों व कर्मचारियों के अवकाश पर रोक लगा दी है। फायर वॉचरों को भी जंगलों में 24 घंटे निगरानी करने के निर्देश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि जंगलों में भड़की आग पर काबू पाने में कहीं कोई संवादहीनता न रहे, इसके लिए राज्य के अफसरों को केंद्र से लगातार समन्वय बनाने के निर्देश दिए गए हैं।