उत्तराखंड: चौखुटिया में बनेगा एयरपोर्ट, अन्य जिलों में भी वायु सेना के रडार सिस्टम के लिए दी जाएगी जमीन।

भारत चीन सीमा विवाद भारत चीन के बढ़ते हुए सीमा विवाद को देखते हुए भारतीय वायु सेना हाई अलर्ट पर है। भारतीय वायु सेना ने उत्तराखंड के समीपवर्ती चीनी सीमा वाले राज्यो में लगातार उड़ान भरनी शुरू कर दी है। जिससे वह पड़ोसी देश की हरकतों पर पैनी नजर रख सकें। इधर भारतीय वायु सेना के एयर मार्शल राजेश कुमार ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुलाकात की तथा एयर फोर्स के रडार सिस्टम के लिए उत्तराखंड में जमीन मुहैया कराने के लिए कहा।

FB IMG 16003198293759109

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बताया राज्य में भारतीय वायुसेना के चौथे हवाई अड्डे के लिए भी चौखुटिया में जमीन दी जाएगी। इस बैठक मेंं राज्य सरकार ने एयर मार्शल की मांग पर एयर डिफेंस राडार और एडवांस लैंडिंग ग्राउंड की स्थापना के लिए भूमि मुहैया कराने पर सहमति व्यक्त की। मुख्यमंत्री ने खुद बैठक में इसका ऐलान करते हुए कहा कि भूमि की उपलब्धता के लिए एयर फोर्स व शासन स्तर पर नोडल अधिकारी नामित किए जाएंगे जो संयुक्त रूप से आवश्यकतानुसार भूमि चिह्नीकरण के संबंध में त्वरित कार्रवाई करेंगे।

FB IMG 16003198832334416

इस दौरान एयर मार्शल ने जहां राज्य में स्थित पंतनगर, जौलीग्रांट एवं पिथौरागढ़ हवाई अड्डों के विस्तार के साथ ही चौखुटिया में एयरपोर्ट के लिए भूमि उपलब्ध कराने पर जोर दिया वहीं एयर डिफेंस रडार की स्थापना के लिए राज्य के चमोली, पिथौरागढ़ और उत्तरकाशी जिलों में भूमि उपलब्ध कराने की मांग भी की ताकि सेना को सीमांत क्षेत्र में उपयुक्त स्थलों पर राडार और एयर स्ट्रिप की सुविधा उपलब्ध हो सके। बैठक में यह भी बताया गया कि अल्मोड़ा के भैंसोली में तो एयर डिफेंस राडार की स्थापना को भूमि चिह्नित भी कर ली गई है। अन्य स्थानों पर भी जल्द ही भूमि का चिन्हीकरण कर लिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.